अनूपपुर

बच्चों के अधिकारों के प्रति किया जागरूक

रिपोर्टर प्रकाश कुशवाहा

अनूपपुर। चाईल्ड लाईन 1098 महिला एवं बाल विकास विभाग भारत सरकार की परियोजना आईसीपीएस कार्यक्रम अन्तर्गत स्वयं सेवी संस्था हार्ड कोतमा द्वारा चाईल्ड लाईन परियोजना अनूपपुर में क्रियांवित कर रही है। यह एक इमरजेंसी सेवा है जिसके तहत 0 से 18 वर्ष के बच्चो को सुरक्षा एवं देखभाल तथा संरक्षण के लिये कार्य करती है। इस परियोजना के द्वारा 14 से 20 नवम्बर 2020 तक चाईल्ड लाईन से दोस्ती का अभियान चलाया गया। इस अभियान के तहत चाइल्ड लाइन अनूपपुर ने बच्चों के लिए जनसामान्य के सामने बाल श्रम, मानव तस्करी, भिक्षावृति, बाल विवाह, नशे की लत बच्चों एवं शोषित बच्चे के मुद्दो को रखा। चाइल्ड लाइन परियोजना संचालक श्री सुषील कुमार शर्मा द्वारा बताया गया कि चाइल्ड लाइन से दोस्ती सप्ताह मनाने का मुख्य उद्देश्य बच्चों को उसके अधिकार को बताना तथा नशे की लत आदि बच्चों को चाइल्ड लाइन से दोस्ती सप्ताह मनाकर समाज के मुख्य धारा में जोडना है एवं चाइल्ड लाइन 1098 के प्रति ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करना है। जिला परियोजना समन्वयक कपिल शुक्ला ने बताया कि चाइल्ड लाइन 24 घंटे 7 दिन चलने वाली आपातकालीन राष्ट्रीय फोन सेवा है। 19 नवम्बर 2020 को आंगनबाड़ी केन्द्र बिजुरी वार्ड नम्बर 10 में रैली निकाली गई जिसमें बच्चों के अधिकारों के बारे में लोगों को जागरूक किया गया। इस कार्यक्रम में वार्ड नम्बर 10 के कार्यकर्ता श्रीमती पुष्पा चैधरी का योगदान सराहनीय रहा। कार्यक्रम में चाइल्ड लाइन परियोजना समन्वयक कपिल शुक्ला, काउंसलर श्रीमती रोषनी राठौर, टीम सदस्य मुकेष कुमार, इबरार अंसारी, जसवंत राठौर, सरोज राठौर, उत्तरा राठौर एवं बिजुरी के समस्त आंगनबाड़ी कार्यकर्ता उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!
Close